विसर्प (meanders) एवं गुम्फित नदी (braided channels)

प्रश्न: विसर्प और गुम्फित नदी की निर्माण प्रक्रिया का वर्णन करते हुए, इनके बीच अंतर की व्याख्या कीजिए।

दृष्टिकोण

  • विसर्प (meanders) एवं गुम्फित नदी (braided channels) को परिभाषित करते हुए इनकी निर्माण प्रकिया का वर्णन कीजिए।
  • विसर्प एवं गुम्फित नदी के बीच के अंतर को स्पष्ट कीजिए।

उत्तर

विसर्प, नदी में एक घुमावदार वक्र या मोड़ होता है। विसर्प, अपरदनकारी और निक्षेपणकारी प्रक्रियाओं का परिणाम हैं। ये सामान्यतः नदी के मध्य और निचले प्रवाह में निर्मित होते हैं। ऐसा मुख्यत: पार्श्व अपरदन द्वारा ऊर्ध्वाधर अपरदन को विस्थापित कर दिए जाने तथा साथ ही बाढ़ के मैदान में होने वाले निक्षेपण के कारण होता है। विसर्प के निर्माण की प्रक्रिया कई चरणों में विभाजित हैं:

  • निम्न प्रवाह की स्थिति में सीधे नदी प्रवाह के तल में अवसाद का निक्षेपण हो जाता है।  प्रवाहित जल, अवसाद की इन रोधिकाओं को काटकर गहरे और छिछले जल क्षेत्रों को विकसित करता है, जिससे नदी किनारों की ओर मुड़ जाती है।
  • जब नदी किनारे की ओर मुड़ती है, तब पार्श्व अपरदन के कारण अधोमुखी (undercutting) कटाव होता है। प्रवाह के दूसरी ओर जब वेग धीमा हो जाता है, तब वहां पदार्थों का निक्षेपण होता जाता है।
  • जलप्रेरित (हाइड्रोलिक) क्रिया और घर्षण के परिणामस्वरूप बाह्य किनारे के साथ-साथ निरंतर अपरदन होता रहता है और आंतरिक किनारों पर निक्षेपण के कारण नदी विसर्प का उद्भव होता है। अंततः नदी द्वारा विसर्प की ग्रीवा को काटकर एक गोखुर झील (ox-bow lake) का निर्माण किया जाता है।
  • अत्यधिक परिवर्तनीय प्रवाह और आसानी से अपरदित किनारों वाली नदी धाराओं में अवसाद का निक्षेपण होता है तथा इससे रोधिकाओं एवं द्वीपों का निर्माण होता है। ये रोधिकाएँ एवं द्वीप, निम्न प्रवाह के दौरान प्रकट होते हैं। ऐसी धाराओं में जल, द्वीपों और रोधिकाओं के चारों ओर उपधाराओं में बंटकर एवं पुनः मिलकर एक गुम्फित प्रारूप में नीचे की ओर प्रवाहित होता है। इस प्रकार की धारा को गुम्फित नदी कहा जाता है। विशाल ब्रह्मपुत्र-जमुना नदी गुम्फित नदी का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

विसर्प एवं गुम्फित नदी के मध्य अंतर:

  • संसक्त किनारों वाली ऐसी धारा जो अपरदन के प्रति प्रतिरोधी होती है, विसर्प का निर्माण करेगी; जबकि दूसरी ओर अत्यधिक अपरदनीय किनारों वाली धारा पर गुम्फित नदी का निर्माण होगा।
  • गुम्फित नदी विसर्प नदी से भिन्न होती है, क्योंकि इसका निर्माण तब होता है जब नदी के तल में एकत्रित अवसाद की मात्रा एक निश्चित स्तर से अधिक हो जाती है तथा साथ ही एक तीक्ष्ण ढाल का भी निर्माण होता है।
  • सामान्यतः गुम्फित नदी ऊँचे पहाड़ों के निकट पाई जाती है, जबकि विसर्प नदी चौड़े एवं समतल बाढ़ के मैदानों में पाई जाती है।
  • गुम्फित नदी, समान प्रवाह वाली विसर्प नदी की तुलना में अधिक चौड़ी एवं छिछली होती है। यह अधिक मात्रा में तलछट को प्रवाहित करती है, अपरदन करती है तथा अत्यधिक नाटकीय रूप से अपने तल को भर देती है। इसके अतिरिक्त यह अपने किनारों का अधिक तीव्रता से, बड़े पैमाने पर और अप्रत्याशित रूप से अपरदन करती है।

Read More

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *