अंतः उष्ण कटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र (ITCZ) : ITCZ पेटी के वार्षिक परिवर्तन और स्थानांतरण एवं भारत के लिए इसके महत्व

प्रश्न: अंतः उष्ण कटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र (ITCZ) से आप क्या समझते हैं? ITCZ पेटी के वार्षिक परिवर्तन और स्थानांतरण एवं भारत के लिए इसके महत्व पर चर्चा कीजिए।

दृष्टिकोण

  • ITCZ का संक्षेप में वर्णन कीजिए।
  • ITCZ पेटी के स्थानांतरण और वार्षिक परिवर्तन का सविस्तार वर्णन कीजिए।
  • भारतीय मानसून के संदर्भ में ITCZ की भूमिका का वर्णन कीजिए।

उत्तर

ITCZ भूमध्य रेखा के निकट लगभग 5 डिग्री उत्तर से 5 डिग्री दक्षिण तक निम्न दाब वाले क्षेत्र को संदर्भित करता है। इस क्षेत्र में उत्तर-पूर्वी सन्मार्गी पवनें और दक्षिण-पूर्वी सन्मार्गी पवनें अभिसरित होती हैं। इसे भूमध्यरेखीय अभिसरण क्षेत्र या मानसून गर्त के रूप में भी जाना जाता है।

वार्षिक परिवर्तन और ITCZ का स्थानांतरण

ITCZ की अवस्थिति वर्षपर्यंत परिवर्तित होती रहती है। यद्यपि यह भूमध्य रेखा के निकट बना रहता है, लेकिन भूमि के तापमान में भिन्नता के कारण, महासागरों की तुलना में स्थलीय भाग के ऊपर के ITCZ की अवस्थिति में उत्तर या दक्षिण की ओर परिवर्तन अधिक पाया जाता है। भूमि और महासागरों के वितरण पैटर्न के आधार पर ITCZ की अवस्थिति भूमध्य रेखा के दोनों ओर, 40 डिग्री से 45 डिग्री उत्तर या दक्षिण अक्षांश तक परिवर्तित हो सकती है।

सूर्य की स्थिति तापीय भूमध्यरेखा (थर्मल इक्वेटर) का संचलन प्रभावित करती है, जिससे भूमंडलीय पवनों की पेटियाँ और दाब प्रणालियाँ वार्षिक रूप से उत्तर और दक्षिण की ओर स्थानांतरित होती रहती हैं। पुनश्च, भूमंडलीय पवनों की दिशा पृथ्वी के घूर्णन से उत्पन्न कोरिऑलिस बल के प्रभाव के अनुसार भी परिवर्तित होती है। ITCZ की अवस्थिति में परिवर्तन भूमध्यरेखीय क्षेत्रों में वर्षा को प्रभावित करती है, क्योंकि यह निम्न वायुमंडलीय दाब वाला क्षेत्र होता है जो आर्द्र पवनों को आकर्षित करता है और इसके ऊपर उठने का कारण बनता है। इसके परिणामस्वरुप, ITCZ की अवस्थिति के आधार पर मौसम आर्द्र या शुष्क होता है और यहाँ तक कि सूखा भी पड़ सकता है।

भारत के लिए ITCZ का महत्व

भारत के लिए ITCZ का महत्व भारतीय मानसून में इसके योगदान के रूप में है। जुलाई में ITCZ जब उत्तर में स्थित होता है, तब यह मानसून गर्त बनाता है। यह उत्तर और उत्तर-पश्चिम भारत में तापीय निम्नदाब के विकास को बढ़ावा देता है। ITCZ के इस स्थानांतरण के कारण, दक्षिणी गोलार्द्ध की सन्मार्गी पवनें, 40° पूर्व और 60° पूर्व देशांतर के बीच भूमध्य रेखा को पार करती हैं और कोरिऑलिस बल के प्रभाव से दक्षिण-पश्चिम से उत्तर-पूर्व की ओर प्रवाहित होने लगती हैं। यह दक्षिण-पश्चिम मानसून बन जाता है।

 शीत ऋतु में, ITCZ दक्षिण की ओर खिसक जाता है, इसलिए पवनों की दिशा भी विपरीत हो जाती है अर्थात पवनों का प्रवाह उत्तर-पूर्व से दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम की ओर हो जाता है। इस प्रकार उत्तर-पूर्व मानसून की उत्पत्ति होती है। वर्षा की मात्रा और तीव्रता ITCZ के संचलन के अनुरूप होती है, क्योंकि उन क्षेत्रों में वर्षा उच्च होती है जिनमें ITCZ अवस्थित होता है। अतः, ITCZ की अवस्थिति और परिवर्तन से वैश्विक परिसंचरण प्रणाली प्रभावित होती है। अंततः यह परिसंचरण प्रणाली सभी क्षेत्रों के मौसम के पैटर्न और वर्षा का निर्धारण करती है।

Read More 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *